• Saturday, December 04, 2021 07:43:31 IST

KVS Logo

केन्द्रीय विद्यालय महाराजपुर कवर्धा क्षेत्रीय कार्यालय , रायपुरशिक्षा मंत्रालय,भारत सरकार के अधीन स्वायत्त निकायसंसदीय क्षेत्र - राजनांदगांव (छ.ग.) सीबीएसई संबद्धता संख्या:- 3300033 सीबीएसई विद्यालय कोड:-19268

Menu

हमारा विजन

केवीएस उच्च गुणवत्ता वाले शैक्षिक प्रयासों के माध्यम से उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए ज्ञान / मूल्यों को प्रदान करने और अपने छात्रों की प्रतिभा, उत्साह और रचनात्मकता का पोषण करने में विश्वास रखता है।

हमारा मिशन

केन्द्रीय विद्यालयों के प्रमुख चार मिशन इस प्रकार हैं - 1. केन्द्रीय सरकार के स्थानांतरणीय कर्मचारियों जिनमें रक्षा तथा अर्धसैनिक बलों के कर्मी भी शामिल हैं , के बच्चों को शिक्षा के सामान्य कार्यक्रम के तहत शिक्षा प्रदान कर उनकी शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करना । 2. विद्यालयी शिक्षा के क्षेत्र में श्रेष्ठता और गति निर्धारित करना । 3. केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सी.बी.एस.सी.) राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद् (एन.सी.ई.आर.टी.) इत्यादि जैसे अन्य निकायों के सहयोग से शिक्षा के क्षेत्र में नए-नए प्रयोग तथा नवाचार को सम्मिलित करना । 4. बच्चों में राष्ट्रीय एकता और ’भारतीयता’ की भावना का विकास करना ।

घोषणाएँ - View All

आयुक्त का संदेश

7वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-2021

जारी रखें...

(आयुक्त का संदेश) आयुक्त

डिप्टी कमिश्नर का संदेश

उपायुक्त कार्यालय से अभिवादन!

अपार खुशी और बड़े गर्व के साथ मैंने आज उपायुक्त कार्यालय ग्रहण किया है और आपके साथ काम करना एक बहुत खुशी और सीखने का अनुभव होगा।

Continue

(विनोद कुमार ) Deputy Commissioner

प्रधानाचार्य का संदेश

The 21st century is calling for compassionate, humane contributors, critical thinkers, creative innovators, and versatile and skilled communicators. We strive to prepare our students for the many exci

जारी रखें...

(School Principal Massage) प्रिंसिपल

About

Kendriya Vidyalaya Kawardha was established on 14 November 2017 as a Civil Sector School . The school functions with one section from class I to VIII with a strength of 384 students and 15 staff.

The Vidyalaya is situated Two Kms away from Bus Stand

Our Vidyalaya aims at academic excellence and personality development enriching National Integration and a sense of “Indianness” among the children.